श्री शाकम्भरी चालीसा – शाकम्भरी माँ अति सुखकारी

श्री शाकम्भरी चालीसा मां शाकम्भरी दुर्गा माता का सौम्य स्वरूप है। मां शाकंभरी कल्याण के लिए पृथ्वी पर आए थी। इनकी चार भुजाएं हैं और इन्हें वनस्पति की देवी भी कहा जाता है। मां शाकम्भरी के दर्शन और पूजन से अन्य धन-धान्य और अक्षय फल की प्राप्ति होती है । माँ शाकम्भरी की कथा एक … Read more

श्री शारदा चालीसा – जय जय जय शारदा महारानी।

श्री शारदा चालीसा मांँ शारदा मेहर गांव के पास धनु नाम का दिन हीन ग्वाला रहता था। वो गाय चराने जंगल जाया करता था ।जंगल में एक पहाड़ पर से अत्यंत सुंदर मनमोहक मानो साक्षात कामधेनु हो ऐसी गाय आती थी ।सब गायों के साथ दिनभर चरती और शाम होते ही वापस पहाड़ पर चली … Read more

श्री नर्मदा चालीसा – जय जय जय नर्मदा भवानी

श्री नर्मदा चालीसा माँ नर्मदा कहां से प्रकट हुई? पौराणिक का कथा अनुसार एक बार भगवान शिव तपस्या में लीन थे तो उनके पसीने से मां नर्मदा जी का जन्म हुआ उस समय उस कन्या का नाम भगवान शिवजी जी ने नर्मदा रखा नमर्दा का अर्थ होता है – सुख प्रदान करने वाली । शिव … Read more

श्री अन्नपूर्णा चालीसा -नित्य आनन्द करिणी माता

श्री अन्नपूर्णा चालीसा पुराने समय की बात है भगवान भोलेनाथ कैलाश पर्वत पर विराजमान थे । उसी समय माँ पार्वती उनके पास आकर विनम्र स्वर में भगवान शिव से अनुरोध करने लगी थी स्वामी हमें कैलाश पर एक रसोई की आवश्यकता है। यह सुनकर भगवान शिव ने माँ पार्वती को मना कर दिया । यह … Read more

श्री बगलामुखी चालीसा

श्री बगलामुखी चालीसा चालीसा बगलामुखी चालीसा एक भक्ति गीत है जो बगलामुखी माता पर आधारित है। ॥ दोहा ॥ सिर नवाइ बगलामुखी, लिखूँ चालीसा आज । कृपा करहु मोपर सदा, पूरन हो मम काज ॥ ॥ चौपाई ॥ जय जय जय श्री बगला माता । आदिशक्ति सब जग की त्राता॥ बगला सम तब आनन माता … Read more

श्री पार्वती चालीसा – ब्रह्मा भेद न तुम्हरो पावे।

श्री पार्वती चालीसा हिंदू धर्म में दुर्गा माता को कई नामों से जाना जाता है शेरावाली जोतां वाली चंड मुंड विनाशिनी और भवानी आदि मां के और भी बहुत सारे नाम है। मां काली माता पार्वती जी दुर्गा मां का ही एक रूप है । मां पार्वती हिमालय पर्वत की पुत्री थी नील कमल के … Read more

श्री वैष्णो चालीसा – नमो: नमो: वैष्णो वरदानी।

श्री वैष्णो चालीसा माँ वैष्णो किसका अवतार है आइए जानें वैष्णो देवी को वैष्णो माता के रूप में भी जाना जाता है कटड़ा में सहित सुंदर पहाड़ियों पर एक गुफा है । जहां तीन पिंण्डीयों के रूप में माता वैष्णो देवी विराजमान है। यहां पर लाखों श्रद्धालु मां का दर्शन कर अपना जीवन धन्य करते … Read more

श्री राधा चालीसा – जय वृषभान कुँवरि श्री श्यामा

श्री राधा चालीसा श्री राधारानी हिंदू धर्म के प्रमुख देवी है। श्री कृष्ण की प्रेमिका और प्रेमी के रूप में चित्रित की जाती है। उन्हें राधा कृष्ण के रूप में पूजा जाता है । परंपरा के अनुसार बरसाना के प्रतिष्ठित जवानों की पुत्री थी एवं मां लक्ष्मी का अवतार थी। कलयुग से बचने का उपाय … Read more

श्री महाकाली चालीसा – Mahakali Chalisa

श्री महाकाली चालीसा एक बार महाकाली बहुत क्रोध अवस्था में थी ।उनकी क्रोधाग्नि से समस्त पृथ्वी नाश होने पर आ गई थी । कोई भी देव,राक्षस और मानव उन्हें रोकने में समर्थ नहीं थे । तभी सभी ने महाकाली को रोकने के लिए समूहिक रूप से भगवान शिव का स्मरण किया । भगवान शिव ने … Read more

श्री काली माता चालीसा – जय जय जय काली कंकाली।

काली माता चालीसा कलयुग में तीन देवताओं को जागृत बताया गया है -हनुमान जी ,काल भैरव और महाकाली । काली माता की पूजा सदियों से होती आई है। काली का अर्थ -होता है समय और समय हमेशा चलता रहता है कभी नहीं रुकता। मां काली की लालजी इच्छाओं का प्रतीक है और उनके दांत जो … Read more