आठवीं महागौरी जगजाया – माँ महागौरी

माँ महागौरी

माँ महागौरी

माँ महागौरी

जै महा गौरी जगत की माया।जै उमा भवानी जय महामाया ।

हरिद्वार कनखल के पासा।महा गौरी तेरा वहां निवासा।

चन्द्रकली और ममता अम्बे। जै शक्ति जै जै जगदम्बे।

भीमा देवी विमला माता।कौशकी देवी जग विख्याता ।

हिमाचल के घर गौरी रुप तेरा।महां काली दुर्गा है स्वरुप तेरा ।

सती ‘सत’हवनकुंडमें था जलाया।उसी धुए ने रूप काली बनाया।

बना धर्म सिंह जो सवारी में आया । तो शंकर ने त्रिशूल अपना दिखाया।

तभी मां ने महागौरी नाम पाया।शरण तेरी आने वाले का संकट मिटाया।

शनिवार को तेरी पूजा जो करता । मां बिगड़ा हुआ काम उसका सुधरता।

‘चमन’ बोलो तो सोच तुम क्या रहे हो। महागौरी मां तेरी हरदम ही जय हो।

चमन की श्री दुर्गा स्तुति

श्री दुर्गा स्तुति अध्याय

महा चण्डी स्तोत्र
महा काली स्तोत्र
नमन प्रार्थना
माँ जगदम्बे जी आरती
महा लक्ष्मी स्तोत्र
श्री संतोषी माँ स्तोत्र
श्री भगवती नाम माला
श्री चमन दुर्गा स्तुति के सुन्दर भाव
श्री नव दुर्गा स्तोत्र – माँ शैलपुत्री
दूसरी ब्रह्मचारिणी मन भावे – माँ ब्रह्मचारिणी
तीसरी ‘चन्द्र घंटा शुभ नाम –  माँ चंद्रघण्टा
चतुर्थ ‘कूषमांडा सुखधाम’ – माँ कूष्मांडा
पांचवी देवी असकन्ध माता – माँ स्कंदमाता 
छटी कात्यायनी विख्याता – माँ कात्यायनी
सातवीं कालरात्रि महामाया – माँ कालरात्रि
आठवीं महागौरी जगजाया – माँ महागौरी
नौवीं सिद्धि धात्री जगजाने – माँ सिद्धिदात्री
अन्नपूर्णा भगवती स्तोत्र

Leave a Comment