रामनवमी

2022 में रामनवमी कब है ?

10 अप्रैल, 2022

(रविवार)

रामनवमी का मुहूर्त

रामनवमी मुहूर्त :11:06:35 से 13:39:01 तक
अवधि :2 घंटे 32 मिनट
रामनवमी मध्याह्न समय :12:22:48

श्री रामनवमी का उत्सव

प्रभु श्रीराम जैसी लोकप्रियता जगत में किसी को नहीं मिली। उनकी लीला के समय ऐसा कोई भी प्राणी न था जो उनके प्रेमपूर्ण मधुर व्यवहार से मुग्ध न हो गया हो।

पार्वती जी ने आदिदेव महादेव से प्रश्न किया था कि श्रीराम कौन हैं, जिनका आप निरन्तर ध्यान व स्मरण किया करते हैं?

तब शिव जी ने उत्तर दिया था,

‘नाना भांति राम अवतारा।’ अर्थात् राम एक नहीं अनेक हैं और उनके अवतार के कारण भी अनेक हैं।

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में रामनवमी मनाई जाती है जो कि भगवान विष्णु के 7वें अवतार थे। प्रत्येक साल हिन्दू कैंलेडर के अनुसार चैत्र मास की नवमी तिथि को श्रीराम नवमी के रूप मनाया जाता है। चैत्र मास की प्रतिपदा से लेकर नवमी तक नवरात्रि भी मनाई जाती है।

श्री रामनवमी हिन्दुओं के प्रमुख त्यौहारों में से एक है जो देश-दुनिया में सच्ची श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। भक्तगण रामायण का पाठ करते हैं। रामरक्षा स्त्रोत भी पढ़ते हैं। कई जगह भजन-कीर्तन का भी आयोजन किया जाता है।भगवान राम की मूर्ति को फूल-माला से सजाते हैं और स्थापित करते हैं।भगवान राम की मूर्ति को पालने में झुलाते हैं।

 मान्यताएँ

श्री रामनवमी की कहानी लंकाधिराज रावण से शुरू होती है। रावण अपने राज्यकाल में बहुत अत्याचार करता था। उसके अत्याचार से पूरी जनता त्रस्त थी, यहाँ तक की देवतागण भी, क्योंकि रावण ने ब्रह्मा जी से अमर होने का वरदान ले लिया था।

उसके अत्याचार से तंग होकर देवतागण भगवान विष्णु के पास गए और प्रार्थना करने लगे। फलस्वरूप प्रतापी राजा दशरथ की पत्नी कौशल्या की कोख से भगवान विष्णु ने राम के रूप में रावण को परास्त करने हेतु जन्म लिया।

तब से चैत्र की नवमी तिथि को रामनवमी के रूप में मनाने की परंपरा शुरू हुई। ऐसा भी कहा जाता है कि नवमी के दिन ही स्वामी तुलसीदास ने रामचरित मानस की रचना शुरू की थी।

श्रीराम के अवतरित होने का कारण

Leave a Comment