सातवां अध्याय – दुर्गा स्तुति का हर कामना पूरी करने के लिए

सातवां अध्याय - दुर्गा स्तुति

सातवां अध्याय

चण्ड मुंड चतुरंगणी सेना को ले साथ । अस्त्र शस्त्र ले देवी से चले करने दो हाथ।

गये हिमालय पर जभी दर्शन सब ने पाए। सिंह चढ़ी मां अम्बिका खड़ी वहां मुस्कराए।

लिये तीर तलवार दैत्य माता पे धाए । दुष्टों ने शस्त्र देवी में कई बरसाए।

क्रोध से अम्बा की आंखों में भरी जो लाली। निकली दुर्गा के मुख से तब ही महाकाली।

खाल लपेटी चीते की गल मुंडन माला। लिए हाथ में खप्पर और इक खड़ग विशाला।

लपलप करती लाल जुबां मुंह से थी निकाली। अति भयानक रूप से फिरती थी महांकाली।

अट्टहास कर गर्जी तब दैत्यों में धाई। मार धाड़ करके कीनी असुरों की सफाई।

पकड़ पकड़ बलवान दैत्य सब मुंह में डाले।पांवों नीचे पीस दिए लाखो मतवाले।

रुण्डो की माला में काली सीस परोये। कइयों ने तो प्राण ही डर के मारे खोये।

चण्ड मुण्ड यह नाश देख आगे बढ़ आये। महांकाली ने तब अपने कई रंग दिखाये।

खड़ग से ही कई असुरों के टुकड़े कर दीने। खप्पर भर भर लहू लगी दैत्यों का पीने

दोहा:- चण्ड मुण्ड का खड़ग से लीना सीस उतार।

आ गई पास भवानी के मार एक किलकार।

कहा काली ने दुर्गा से किये दैत्य संहार ।शुम्भ निशुम्भ को अपने ही हाथों देना मार ।

तब अम्बे कहने लगी सुन काली मम बात।

आज से चामुण्डा तेरा नाम हुआ विख्यात ।

चण्ड मुण्ड को मार कर आई हो तुम आप। आज से घर घर होवेगा नाम तेरे का जाप ।

जो श्रद्धा विश्वास से सप्तम पढ़े अध्याय । महांकाली की कृपा से संकट सब मिट जाय।

नव दुर्गा का पाठ यह ‘चमन’ करे कल्याण। पढ़ने वाला पाएगा मुंह मांगा वरदान ।

चमन की श्री दुर्गा स्तुति

श्री दुर्गा स्तुति अध्याय

महा चण्डी स्तोत्र
महा काली स्तोत्र
नमन प्रार्थना
माँ जगदम्बे जी आरती
महा लक्ष्मी स्तोत्र
श्री संतोषी माँ स्तोत्र
श्री भगवती नाम माला
श्री चमन दुर्गा स्तुति के सुन्दर भाव
श्री नव दुर्गा स्तोत्र – माँ शैलपुत्री
दूसरी ब्रह्मचारिणी मन भावे – माँ ब्रह्मचारिणी
तीसरी ‘चन्द्र घंटा शुभ नाम –  माँ चंद्रघण्टा
चतुर्थ ‘कूषमांडा सुखधाम’ – माँ कूष्मांडा
पांचवी देवी असकन्ध माता – माँ स्कंदमाता 
छटी कात्यायनी विख्याता – माँ कात्यायनी
सातवीं कालरात्रि महामाया – माँ कालरात्रि
आठवीं महागौरी जगजाया – माँ महागौरी
नौवीं सिद्धि धात्री जगजाने – माँ सिद्धिदात्री
अन्नपूर्णा भगवती स्तोत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *