सातवीं कालरात्रि महामाया – माँ कालरात्रि

माँ कालरात्रि

माँ कालरात्रि

माँ कालरात्रि

कालरात्रि जै जै महाकाली । काल के मुंह से बचाने वाली।

दुष्ट संधारण नाम तुम्हारा ।महां चण्डी तेरा अवतारा।

पृथ्वी और आकाश पे सारा । महाकाली है तेरा पसारा ।

खंडा खप्पर रखने वाली।दुष्टों का लहू चखने वाली।तुम्हारा ।

कलकत्ता स्थान तुम्हारा। सब जगह देखु तेरा नज़ारा।

सभी देवता सब नर नारी । गावें स्तुति स्भी तुम्हारी ।

रक्तदन्ता और अन्न पूरणा ।कृपा करे तो कोई भी दुःख ना ।

न कोई चिन्ता रहे बिमारी। न कोई गम न संकट भारी ।

उस पर कभी कष्ट न आवे । महाकाली मां जिसे बचावे ।

तू भी ‘चमन’ प्रेम से कह। कालरात्रि मां तेरी जय।

आठवीं महागौरी जगजाया – माँ महागौरी

चमन की श्री दुर्गा स्तुति

श्री दुर्गा स्तुति अध्याय

महा चण्डी स्तोत्र
महा काली स्तोत्र
नमन प्रार्थना
माँ जगदम्बे जी आरती
महा लक्ष्मी स्तोत्र
श्री संतोषी माँ स्तोत्र
श्री भगवती नाम माला
श्री चमन दुर्गा स्तुति के सुन्दर भाव
श्री नव दुर्गा स्तोत्र – माँ शैलपुत्री
दूसरी ब्रह्मचारिणी मन भावे – माँ ब्रह्मचारिणी
तीसरी ‘चन्द्र घंटा शुभ नाम –  माँ चंद्रघण्टा
चतुर्थ ‘कूषमांडा सुखधाम’ – माँ कूष्मांडा
पांचवी देवी असकन्ध माता – माँ स्कंदमाता 
छटी कात्यायनी विख्याता – माँ कात्यायनी
सातवीं कालरात्रि महामाया – माँ कालरात्रि
आठवीं महागौरी जगजाया – माँ महागौरी
नौवीं सिद्धि धात्री जगजाने – माँ सिद्धिदात्री
अन्नपूर्णा भगवती स्तोत्र

Leave a Comment