दूसरी ब्रह्मचारिणी मन भावे – माँ ब्रह्मचारिणी

माँ ब्रह्मचारिणी

माँ ब्रह्मचारिणी

जै अम्बे ब्रह्मचारिणी माता । जै चतुराणन प्रिय सुख दाता ।

ब्रह्मा जी के मन भाती हो। ज्ञान सभी को सिखलाती हो ।

ब्रह्म मन्त्र है जाप तुम्हारा । जिस को जपे सकल संसारा।

जै गायत्री वेद की माता । जो जन निस दिन तुम्हें ध्याता ।

चमन लालकमी कोई रहने न पाए।कोई भी दुःख सहने न पाए।

उसकी विरति रहे ठिकाने । जो तेरी महिमा को जाने ।

रुद्राक्ष की माला लेकर। जपे जो मन्त्र श्रद्धा देकर।

आलस छोड़ करे गुणगाना ।मां तुम उसको सुख पहुंचाना।

ब्रह्मचारिणी तेरो नाम । पूर्ण करो सब मेरे काम ।

‘चमन’ तेरे चरणों का पुजारी। रखना लाज मेरी महतारी ।

तीसरी ‘चन्द्र घंटा शुभ नाम –  माँ चंद्रघण्टा

चमन की श्री दुर्गा स्तुति

श्री दुर्गा स्तुति अध्याय

महा चण्डी स्तोत्र
महा काली स्तोत्र
नमन प्रार्थना
माँ जगदम्बे जी आरती
महा लक्ष्मी स्तोत्र
श्री संतोषी माँ स्तोत्र
श्री भगवती नाम माला
श्री चमन दुर्गा स्तुति के सुन्दर भाव
श्री नव दुर्गा स्तोत्र – माँ शैलपुत्री
दूसरी ब्रह्मचारिणी मन भावे – माँ ब्रह्मचारिणी
तीसरी ‘चन्द्र घंटा शुभ नाम –  माँ चंद्रघण्टा
चतुर्थ ‘कूषमांडा सुखधाम’ – माँ कूष्मांडा
पांचवी देवी असकन्ध माता – माँ स्कंदमाता 
छटी कात्यायनी विख्याता – माँ कात्यायनी
सातवीं कालरात्रि महामाया – माँ कालरात्रि
आठवीं महागौरी जगजाया – माँ महागौरी
नौवीं सिद्धि धात्री जगजाने – माँ सिद्धिदात्री
अन्नपूर्णा भगवती स्तोत्र

Leave a Comment