नमन प्रार्थना

नमन प्रार्थना – मां जगदम्बे तुम हो जगत जननी मैय्या

 नमन प्रार्थना

नमन प्रार्थना

मां जगदम्बे तुम हो जगत जननी मैय्या । ये मेरे भी कष्ट निवारो तो जानू ।

दुनियां की बिगड़ी बनाई है तू नें। ये मेरी भी बिगड़ी संवारो तो जानूं।

नाश किये दैत्य देवों के कारण। मेरे भी शत्रु यह टारो तो जानूं।

पार किये भव-सिन्धु से लाखों । मुझ को भी पार उतारो तो जानूं।

न बुद्धि न बल नाही भक्ति है मुझ में। यन्त्र यह मन्त्र व तन्त्र न आए।

पूत कपूत ‘चमन’ है बहुतेरें ।माता कुमाता कभी न कहलाए ।

मेरी ढीठाई पे ध्यान न दीजो। किस को कहूं अपना दुखड़ा सुनाके ।

अपने ही नाम की लाज रखो। वरदाती न खाली फिरूं दर पे आके।

पुत्र की परम स्नेही है माता । वेदों पुराणों ने समझाया गा कें।

आया शरण में तुम्हारी भवानी।बैठा तेरे दर पे धूनी रमा कें ।

तुम ही कहो, छोड़ माता के दर को। किस से कहूं अपनी विपता सुनायें।

कपूत ‘चमन’ है बहु तेरें । पूत माता कुमाता कभी कहलाए।

गोदी बिठाओ या चरणी लगाओं। मुझे शक्ति भक्ति का वरदान चाहिए।

पतित हूं तो क्या फिर भी बालक हूं तेरा। कपूत का भी माता को ध्यान चाहिए।

खाली फिरा न भण्डारे से कोई । तो करना हमारा भी कल्याण चाहिए।

जगत रुठे तो मुझ को चिन्ता नहीं है। तुझे मैय्या होना मेहरबान चाहिए।

तुम्हारे भरोसे पे ही जगत जननी । श्लोकों का यह अर्थ नादान गायें।

पूत कपूत ‘चमन’ हैं बहुतेरे माता कुमाता कभी न कहलाए।

चमन की श्री दुर्गा स्तुति

श्री दुर्गा स्तुति अध्याय

महा चण्डी स्तोत्र
महा काली स्तोत्र
नमन प्रार्थना
माँ जगदम्बे जी आरती
महा लक्ष्मी स्तोत्र
श्री संतोषी माँ स्तोत्र
श्री भगवती नाम माला
श्री चमन दुर्गा स्तुति के सुन्दर भाव
श्री नव दुर्गा स्तोत्र – माँ शैलपुत्री
दूसरी ब्रह्मचारिणी मन भावे – माँ ब्रह्मचारिणी
तीसरी ‘चन्द्र घंटा शुभ नाम –  माँ चंद्रघण्टा
चतुर्थ ‘कूषमांडा सुखधाम’ – माँ कूष्मांडा
पांचवी देवी असकन्ध माता – माँ स्कंदमाता 
छटी कात्यायनी विख्याता – माँ कात्यायनी
सातवीं कालरात्रि महामाया – माँ कालरात्रि
आठवीं महागौरी जगजाया – माँ महागौरी
नौवीं सिद्धि धात्री जगजाने – माँ सिद्धिदात्री
अन्नपूर्णा भगवती स्तोत्र

Leave a Comment