चौथा अध्याय माघ महात्म्य

चौथा अध्याय माघ महात्म्य वशिष्ठ जी बोले- हे राजन् ! जब भृगु जी अपनी तपस्या में लीन थे तो विद्याधरों का एक दम्पति उनके पास पहुँचा। वे बहुत दुःखी थे और भृगु जी को अपनी कथा सुनाने आये थे। उन्होंने मुनि को श्रद्धापूर्वक प्रणाम किया और कहा- हे मुनिदेव ! इस दिव्य देह को पाकर … Read more

कार्तिक पूर्णिमा

कार्तिक पूर्णिमा इस दिन महादेव ने त्रिपुरासुर नामक राक्षस का संहार किया था। इसलिए इसे त्रिपुरी पूर्णिमा भी कहते हैं। इस तथि को भगवान का मत्स्यावतार हुआ था। इस दिन गंगा स्नान, दीप दान आदि का विशेष महत्त्व है। इस दिन यदि कृतिका नक्षत्र हो तो महाकार्तिकी होती है, भरणी होने से विशेष फल देती … Read more

हम भगवान को भोग क्यों लगाते हैं ?

हम भगवान को भोग क्यों लगाते हैं? एक बार मैंने सुबह टीवी खोला तो जगत गुरु शंकराचार्य कांची कामकोटि जी से प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम चल रहा था। एक व्यक्ति ने प्रश्न किया कि “हम भगवान को भोग क्यों लगाते हैं?” “हम जो कुछ भी भगवान को चढ़ाते हैं, उसमें से भगवान क्या खाते हैं? क्या पीते … Read more

Shri Ram shayari or status in hindi

Shri Ram shayari or status सुखद सुंदर एवम सफल जीवन की तरफ श्री राम आपका मार्गदर्शन करे.राम का जीवन एक प्रेरणा स्रोत है. भगवान श्री राम चंद्र की जय…!! वैसे तो हम जानी मानी हस्ती नही हैं ना ही बङे इंसान हैं,लेकिन जब भी रास्ते से गुजरते है,तो दुश्मन के मुँह से भी निकल जाता … Read more

Maa Durga shayari or status

Maa Durga shayari or status माता का हाँथ पकड़कर रखिए,लोगों के पाँव पकड़ने की जरूरत नहीं पड़ेगी। मेरे सिर पर हाथ फेर कर, माँ उलझन मेरी मिटाती है,जब भी कोशिश करके थक जाता हूं,मैय्या ही राह दिखाती है…जय माता दी जी ॐ जय माँ चिन्तपूर्णी जी की ॐकिसी ने मुझसे पूछा अगले जनम में क्या … Read more

श्री गिरिराज जी की महिमा

श्री गिरिराज जी की महिमा ब्रजमण्डल में जो महत्त्व श्रीवृन्दावन धाम का है,वही महत्व श्री गिरिराज गोवर्द्धन का है । भगवान श्रीकृष्ण के काल के यदि कोई नेत्रगोचर चिन्ह हैं तो वे हैं श्री गिरिराजजी, श्री यमुना महारानी एवं परमपावन ब्रज-रज । ब्रजवासी श्री गिरिराज को भी अपना सब कुछ मानते हैं – सखा, पुत्र, … Read more